Aman Ki Asha

Aman Ki Asha a peace thingee apparently going on between Indo – Pak A times of India group initiative and some Pakistan organization an NGO intiative… Why? is my question…. Pak has now no one to support them and people are dying through their own men is it that now we are going and shaking hands of peace with them…. Why again?…. No country in the world is supporting Pakistan then why us?….. to bring more terrorist in India… I am sorry if i am an extremist in my views but isn’t it logical…. You know the terrorist come from Pak they kill around 1000 people around the country everytime they attack but still what we want is peace…. Don’t you think it’s a shame on our part that the World Famous Celebrity ‘Kasab’  is still in our jail sitting like a V.I.P and wasting our money obviously the money going behind him is our money where we pay tax to the goverment and what the goverment does is instead of spending money on building roads and improving infrastructure they spend money on these activities…. People from other countries must be laughing on us and what we are doing is joining hands and talking about peace with a terrorist country who we have solid evidence against… Think about it rationally Should We or Should We Not? Aman ki Asha should be Asha only from my side…. Because Aman’s Days Are Over when we got seprated….

Advertisements

3 Comments

  1. January 8, 2010 at 12:08 pm

    hey this is rutvik…………………………..well said man………………….nice post

  2. hparmekar said,

    January 8, 2010 at 3:43 pm

    thanks rutvik even ur blog is kool….

  3. satvir rana said,

    January 19, 2010 at 5:46 am

    aman ki aasha- ek bacchi hui umeed

    कुच्छ दद्खाने खफा हैं मेरी मुझसे क्यों अब तक………….

    क्यों रंजिशों के ज़ख्म कुरेद देता है हर बार, यहे जुनूनी ज़हन मेरा जो कभी वक़्त की महरम ने दफ़न कर दिए थे,
    इस पाक ज़मीन की नीचे ,कुछ इधर भी और कुच्छ उधर भी
    आज भी बालिमरण की उन तंग गललियों का जीकर ताज़ा है ,उधर भी बात उस बेफिकर तफरी की, अनारकली बाज़ार की महफ़िल में, होती है इधर
    इस दहशत की ठंडी खुश्क हवैएँ मोजूद हैं कभी मरी में तो , गुलमर्ग में कभी
    दफ़न करना है इस हवानियत को, जो एक, सियासी कफ़न में लिपटी है , ये तह कर लिया अब से ,इस नस्ल ने, इधर भी और उधर भी,
    लव्स बयान नहीं कर सकते इस रूहानी रिश्ते को, जो कभी बहा था सुर्ख लहू बन कर , हमारे मुस्तकबिल के लिए, उस तरीक के गवाह शरीक हैं, आज भी ,इस तरफ भी और उस तरफ भी
    किसी चार द्वारी के कोने में गुनगना रहा है कोई तरनुम यहाँ की, और नज़्म उधर के बयां होती है, हर वक़्त होटों पर इधर भी
    बच्चपन की उस खला की सेवियां याद आतें हैं, हर इद पर, इधर भी
    एक चाचा के हलवे को यiद् करते हैं, हर बार, कुच्छ उधर भी
    फसल पूँछ रही है हर बार इस नदी के उन दो किनारों से,क्या फरक है उसकी मिठास में ,इस तरफ का उस तरफ से
    क्यों बचपान की कोई धुंधली याद कर देती है एक बुर्ज़ुर्ग वालिद की आंखें नम, उस तरफ भी और इस तरफ भी
    लहू बन कर बहे हैं ,कई बार, अश्क कुच्छ उधर भी और कुच्छ इधर भी, याद रख हर ज़क्म परा है इस रूह के जिस्म पर हर बार, वोह था एक ही
    लव्सों में बयान करते थे, ये जज़्बात इस वजूद के मुकमिल होने का, तेरे गर्म अस्कों की नमी को मुह्सूस किया अपने गIल पे,इस बार, तो क्यों कुछ एहसास हुआ अपने अधूरेपन का.

    let us turn this spark into a forestfire,

    a sheep from the same flock

    satvir


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: